Smart work VS Hard work in study in Hindi




Smart work vs Hard work in study


Hello friends...

ऐसे बहुत से विद्यार्थी है जो पढते तो बहुत है और मेहनत भी खूब करते है लेकिन उनके मार्क्स कम आते है और उनका प्रदर्शन मनमुताबिक नहीं रहता है। आज की पोस्ट में इसी समस्या को कवर किया गया है।
...

विद्यार्थी हार्ड वर्क (Hard work) तो करते हैं लेकिन स्मार्ट वर्क (Smart Work) नहीं करते है। मैं आज की पोस्ट में यह बताऊंगा कि स्मार्ट वर्क कैसे किया जाता है और स्मार्ट वर्क की सहायता से किस प्रकार प्रदर्शन में सुधार लाया जा सकता है और किस प्रकार अपने लेवल को उच्च स्तरीय बनाया जा सकता है।

Smart work vs hard work
Smart work vs hard work in study




 आइये एक उदाहरण की सहायता से हार्ड वर्क (Hard Work) और स्मार्ट वर्क (Smart Work) के मध्य अंतर को समझते हैं...

         मान लीजिए कि हमें इतिहास की कुछ घटनाओं (जैसे कौनसा बादशाह कब आया और कितना शासन किया, उसके बाद कौन राजा बना, घटनाओं का क्रम याद करना, तिथियों को याद करना) को याद करना है तो हम उन्हैं दो तरीकों से याद कर सकते है।

   पहला तरीका है कि हम सारी घटनाओं को रट कर याद कर लें और दूसरा तरीका है कि हम उन घटनाओं को किसी ट्रिक की सहायता से याद करें।

       पहले तरीके से हम घटनाओं को याद तो कर सकते है लेकिन उन्हैं जल्द ही भूल जायेंगे और अगर उन्हीं घटनाओं को हम किसी विशेष ट्रिक से याद करें तो वे जल्दी याद होगी और साथ ही लम्बे समय तक मेमोरी में टिकी रहेगी।।
   
इसमें याद करने का पहला तरीका हार्ड वर्क (Hard Work) का उदाहरण है जबकि दूसरा तरीका जो कि प्रभावशाली है, स्मार्ट वर्क (Smart Work) का उदाहरण है।

अब आप समझ गये होंगे कि स्मार्ट वर्क और हार्ड वर्क में क्या अन्तर है।

 अगर हम सारे विषयों को स्मार्ट वर्क की सहायता से पढ़ें तो हम सभी विषयों/कांसेप्ट में बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं और यह हमारे सोचने के तरीके को भी प्रभावशाली बनाता है।



-------      --------
Kaisi lgi aapko post, comment karke jrur btaye...
                                         --------      -------
  

0 टिप्पणियाँ: