सकारात्मक सोच। positivity tips in hindi।।

एक सकारात्मक सोच वाला व्यक्ति कैसे बनें।

सकारात्मकता यानि कि positivity एक ऐसा शब्द है जिसे हर कोई पसंद करता है और Positive बनना चाहता है।


आज हम एक ऐसे वातावरण या माहौल में जी रहे है जो हमें एक प्रतिस्पर्धी इंसान बनाता है और इसी प्रतिस्पर्धा में हम अपनी शारीरिक सेहत के साथ-साथ मानसिक सेहत का भी ख्याल नहीं रख पा रहे है। इसी वजह से लोग आये दिन 'सकारात्मक कैसे बनें' जैसे टॉपिक्स सर्च करते रहते है। अगर आप गहराई से इस पोस्ट को पढ़ते हो और उस पर अमल करते हो तो आगे से आपको इस प्रकार की posts को ढ़ूंढने की जरूरत नहीं पङेगी। इस पोस्ट को Bookmark कर लें और जब भी मन में नकारात्मकता आये तो इसे पढ़ लें।

Positive thoughts
How to be positive person


तो चलिए शुरू करते है कि किस प्रकार हम पॉजिटिव बने रह सकते है।


Let's take some points to consider this topic...


1. Think smart, not hard - 

हम सभी हमारे साथ वर्तमान में होने वाली घटनाओं तथा उससे जुड़े भविष्य के परिणाम के बारे में सोचते रहते है। हम सबका सोचने का तरीका अलग होता है। यही कारण है कि कुछ लोग तो हमेशा सकारात्मक नजर आते है जबकि कईयों के चेहरे पर हमेशा मायूसी छाई रहती है।

  अगर हमारे साथ कोई भी इंसिडेंट हो तो उसके बारे में सकारात्मक रवैया अपनाना चाहिए जैसे कि हमारे साथ कोई बुरी घटना होती है तो हम उससे सहम जाते है लेकिन हमें उससे सहमने की बजाय उसका हल ढूंढना चाहिए।

किसी भी समस्या का हल संभव है और उसका हल हमें स्मार्ट तरीके से निकालना चाहिए ताकि हम अपने आप को समझ सकें और खुद को एक बेहतर लेवल का इंसान बना सकें।

 Use gadgets to increase productivity


2. Keep Yourself Busy -

स्वयं को व्यस्त रखने का तात्पर्य यह है कि हमेशा कुछ नया करने/सीखने की कोशिश करें जिससे आपको फालतू की Activities में इंटरेस्ट नहीं रहेगा।

अपने व्यस्त schedule से समय निकालकर पसंदीदा अभिरूचियों(Hobbies) को पूरा करें जिससे आपको आंतरिक खुशी मिल सकें और तनाव मुक्त रह सकें।

• Mobile addiction से कैसे बचें।

3. Be Your Own Boss -

अपने खुद के बॉस बने यानि कि अपनी जिंदगी को अपने तरीकों से जीयें। किसी से तुलना करके खुद को कम न आँकें, अपनी प्रतिभा को पहचानें और जीनें का self made way बनायें जो उचित हो।

• Smart work and hard work in study

4. खुद को माफ करना सीखें -

गलती करना कोई पाप नहीं है और हम सभी गलतियां करके ही सीखते है। अतः अगर कोई गलती हो जाये तो खुद को कोसने की बजाय उससे सबक लें और भविष्य में इस प्रकार की गलती न करने का प्रण लें।

5. नकारात्मकता से बचें -

नकारात्मकता से बचने का अभिप्राय यह है कि ऐसी गलतियां न करें जिनसे आपको बहुत पछतावा हो जैसे कि दोस्तों संग शराब सेवन, सिगरेट पीना। 




दोस्तों, उम्मीद है कि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी होगी। इसी प्रकार की motivational and study tips के लिए जुड़े रहें हमारे साथ। धन्यवाद...।
   




1 टिप्पणियाँ: