मोबाइल से Zip file को Unzip कैसे करें।। How to convert zip file into unzip by using smartphone.

मोबाइल की सहायता से Zip file को Unzip कैसे करें।। 

Hello everyone, स्वागत है आप सबका mscric.ooo पर।।


आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे कि मोबाइल की सहायता से किस प्रकार zip file को unzip किया जा सकता है...!!

Zip file, rare file
Zip file को unzip कैसे करें।।



बहुत से ऐसे लोग है जो अपना सारा काम मोबाइल पर करते है क्योंकि उनके पास डेस्कटॉप या लैपटॉप नहीं होता है। हमारे सामने कई ऐसे लोगों के उदाहरण है जो अपने YouTube Channel या Blog को सिर्फ मोबाइल से हैंडल करते है। उदाहरण के लिए - Technical dost जो कि एक youtube channel है, मोबाइल से संचालित है और उस पर 1 million+ Subscribers है। अब आप समझ गयेे होंगे कि पैैसा ही सबकुछ नहीं है मतलब आप एक छोटी-सी शुरुआत से बहुत कुछ कर सकते हो।


आइये अब मुख्य टॉपिक पर चलते है...😍😍
...
...
सबसे पहले जानते है कि zip file क्या होती है ?

Zip file का उपयोग बङी फाइलों को compressed कर छोटी फाइलें बनाने में किया जाता है। zip file एक या अधिक फाइलों का compressed रूप होता है जिसे हम पासवर्ड द्वारा सुुुरक्षित भी कर सकते है। zip file का मुख्य उपयोग बङी फाइलों को छोटी फाइलों मेें बदलकर online easily भेजने में किया जाता है।



Zip file को मोबाइल से सीधा unzip नहीं किया जा सकता है और बिना unzip किये हम इसे न तो पढ़ सकते है और न ही अॉपन कर सकते है। अतः unzip करना जरूरी है।

इसके लिए सबसे पहले हमें एक Application डाउनलोड करनी होगी। इसका नाम है - ES file explorer. App डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

     इसे डाउनलोड करने के बाद अॉपन करना है और कुछ permissions देनी होगी। इसके बाद आपने जो भी zip file या Rare file डाउनलोड की है, वो फाइल इस एप्लिकेशन में Compressed नामक फोल्डर में आ जायेगी। यहाँ आपको जिस किसी भी फाइल को unzip करना है, उसके सामने दिये Unzip अॉप्शन पर क्लिक करना है और फाइल unzip हो जायेगी।

इस प्रकार आप zip file को unzip कर सकते है।

Zip file का उपयोग online study material, templates etc. को compressed करने में किया जाता है।


उम्मीद करता हूँ कि आपको यह पोस्ट पसंद आयी होगी। 

जुड़े रहिये हमारे साथ... 



YouTube में incognito mode कैसे enable करें।। How to enable incognito mode in Youtube।। MS Cric

YouTube में incognito mode कैसे enable करें. 


Hello friends, स्वागत है आपका mscric.ooo पर।।

आज की हमारी पोस्ट YouTube की  safe browsing के बारे में है यानि कि YouTube के incognito mode को कैसे enable करते है और इसका क्या काम है।

Incognito mode, safe browsing
 enable incognito mode in youtube.


अगर आप incognito mode के बारे में नहीं जानते है तो यहाँ क्लिक करें

Youtube में incognito mode Enable करने के लिए सबसे पहले Youtube एप्प को open करें (अगर Youtube एप्प update नहींं है तो इसे update कर लें), एप्प को open करने के बाद नीचे दिये screenshot के अनुसार Right sight में क्लिक करें। (Arrow की तरह)
Incognito mode in youtube

Right corner में क्लिक करने के बाद नीचे दी गई photo के जैसी screen खुलेगी, यहांं लिखे Turn on incognito पर क्लिक करें।
Incognito mode, safe browsing mode

Turn on incognito mode पर क्लिक करने से YouTube में incognito mode अॉन हो जायेगा। 

Incognito mode अॉन होने के बाद आप YouTube जो भी search करोगे और videos देखोगे, Youtube में उनकी History सेव नहीं होगी और आप पसंद के विडिओज का आनंद उठा पायेंगे।

उम्मीद है आपको यह पोस्ट पसंद आयी होगी। इसी प्रकार की इन्टरनेट और स्टडी से जुड़ी पोस्ट के लिए जुड़े रहे हमारे साथ।


Incognito mode क्या है और इसे कैसे enable करते है।

What is incognito mode ?


Hello everyone, स्वागत है आप सबका mscric.ooo पर।

आज हम बात करेंगे कि Incognito mode क्या है और इसका क्या उपयोग है। इसका उपयोग करना कहाँ तक उचित है।

Incognito mode, safe browsing
What is incognito mode ?

Incognito mode एक ऐसा feature है जो हमें secure web browsing का option देता है। इसे Google द्वारा 2008 में Chrome browser में दिया गया था जो आज सारे  browsers में private browser, incognito के नाम से दिया जा रहा है।

Incognito mode को enable करने के बाद हम जो भी सर्च करते है, Browser में उसकी History और Cashe files कलेक्ट नहीं होती है।

जहाँ तक incognito mode के उपयोग की बात है तो हम सभी कभी-न-कभी कुछ ऐसा सर्च करते है जिसे हम अपनी Browser की हिस्ट्री में नहीं दिखाना चाहते है और नहीं चाहते है कि हमारे ये सर्च रिजल्ट किसी और को पता चले तो इसके लिए इनकॉग्निटो मोड एक अच्छा विकल्प है जिसकी सहायता से हम सुरक्षित ब्राउज़िंग कर सकते है।

अगर आप सोच रहे हैं कि इनकॉग्निटो मोड एक बहुत ही सुरक्षित मोड है तो यह आपकी गलतफहमी है। Incognito mode हमारी search history & cashe को सेव नहीं करता है परंतु Google सेव करता है।

अगर आप पूरी तरीके से सुरक्षित ब्राउज़िंग करना चाहते हैं तो VPN ही अच्छा रहेगा।

  •How to use gadgets to increase productivity ?

Incognito mode की अच्छी बात यह है कि हम अगर किसी दूसरे का फोन या लेपटॉप उपयोग करें तो उसमें हम यह मोड enable करने के बाद जो भी सर्च करेंगे, वो Browser की history में save नहीं होगा और सामने वाले को यह भी पता नहीं चलेगा कि हमने उसके phone या laptop में क्या सर्च किया...!

Google chrome browser में ऊपर Right sight में three डॉट पर क्लिक करने पर incognito mode का option आता है, उस पर क्लिक करने से यह एक्टिव हो जायेगा।


Some other posts
  • Mobile addiction से कैसे बचें !
  • Best ways to earn money online 

उम्मीद करता हूं दोस्तों आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी। इसी प्रकार की पोस्ट के लिए जुड़े रहिए हमारे ब्लॉग के साथ। धन्यवाद...

प्रोडक्टिविटी बढ़ाने के लिए काम में ले गैजेट्स।। Use Gadgets to Increase Productivity

गैजट्स से इस प्रकार बढ़ायें प्रोडक्टिविटी

आज हम मानव इतिहास के सर्वाधिक सुगम और सफल युग में जी रहे है। आज हमारे पास प्रत्येक चीज के लिए गैजेट्स उपलब्ध है जिनकी सहायता से हम अपनी लाइफस्टाइल को Productive बना सकते है।

वैज्ञानिक क्रांति की वजह से हमेशा नये-नये गैजेट आ रहे है जो हमारे डिजिटल अनुभव को और बेहतर बना रहे है। 

वो दिन चले गये जब सारा काम हाथ से किया जाता था, अब वक्त है Digitalization यानि कि तकनीक के साथ आगे बढ़ने का।

Productivity
Gadgets से इस प्रकार बढ़ायें प्रोडक्टिविटी

आज की इस पोस्ट में कुछ ऐसे गैजेट्स के बारे में बात की जायेगी जो हमारे दैनिक जीवन को डिजिटल बना देंगे। दैनिक जीवन में डिजिटलीकरण के पीछे हमारी व्यस्त लाइफस्टाइल है जो हमें Digital products का उपयोग बढ़ाने के लिए प्रेरित करती है।

Let's start...


1. वायरलैस हेडफोन (Wireless Headphone) -

अगर आप भी एक ऐसे पेशे में है जहाँ आपको सारे दिन फोन कॉल्स attend करने पङते है तो यह गैजेट आपके लिए है। इनमें वायरलैस कनेक्टिविटी होने के कारण इनसे आराम से घूमते हुए और कुछ भी काम करते हुए बात कर सकते है। इससे ना तो गर्दन में दर्द होगा और ना ही हाथ थकेंगे।

   इसके अलावा अगर आप वायर्ड हेडफोन/इयरफोन से म्यूजिक सुन कर बोर हो चुके है तो भी आप इनका उपयोग म्यूजिक सुनने के लिए कर सकते है।


2. वर्चुअल असिस्टेंट ( Virtual Assistant) - 

Amazon Alexa या Google Home जैसे स्मार्ट स्पीकर वर्चुअल असिस्टेंट की श्रेणी में आते हैं जो यूजर्स के लिए कई फंक्शंस (functions) परफॉर्म करते है। इन स्पीकर्स की सहायता से हम अपना काफी वक्त बचा सकते है। ये स्पीकर्स हमारे लिए अलार्म बजाना, टू-डू लिस्ट बनाना, रियल टाइम इंफॉर्मेशन प्रोवाइड करना जैसे कई काम कर सकते है। इससे हमें हमारे कुछ महत्वपूर्ण कामों को याद रखने की जरूरत नहीं होगी। 

  तकनीकी विकास के साथ वर्चुअल असिस्टेंट इंटेलिजेंट होते जा रहे है।


3. फिटनेस वॉचेज (Fitness watches) -

अगर आप अपनी व्यस्त लाइफस्टाइल और बिजनेस के कारण अपनी सेहत का ख्याल नहीं रख पा रहे है तो यह गैजेट आपके लिए है। एप्पल और शाओमी जैसे कई ब्रांड फिटनेस वॉचेस ला रहे है जो फिजिकल एक्टिविटी, कैलोरी बर्न और दिल की धङकन आदि को मॉनिटर करते है। इनसे मिले परिणाम के आधार पर हम हमारी सेहत से updated रहते है।



इनके अलावा भी बहुत से ऐसे प्रोडक्ट हैं जिनकी उपयोग से हम हमारी लाइफ को और सुगम बना सकते है जैसे कि Smart pen, Smart screen, smart bages, smart goggles, desk mount arms, smart toothbrushes, smart shoes, smart bed etc.


अगर आपको इस पोस्ट से संबंधित कोई भी सवाल है तो comment box में जरूर पूछें।





Full form of some technical words।। कुछ तकनीकी शब्दों की फुल फॉर्म



Full form of some technical words


Hello everyone, स्वागत है आप सबका।।

Technology के बढ़ने से लगातार तकनीकी शब्दों का भंडार बढ़ता जा रहा है। इन शब्दों को सरलता से व्यक्त करने तथा समझने के लिए इनका संक्षिप्त रूप काम में लिया जाता है।


हम संक्षिप्त शब्दों का बहुत उपयोग करते है लेकिन हमें उनकी फुल फॉर्म का ध्यान नहीं होता है। आज मैं तकनीकी दुनिया(Technology world) से जुड़े कुछ संक्षिप्त शब्दों के फुल फॉर्म के बारे में बताऊंगा जिनका हम दैनिक जीवन में उपयोग करते रहते है।

Full forms of technical words

...

HTML - Hypertext Markup Language

Http - Hypertext Transfer Protocol

Https - Hypertext Transfer Protocol Secure

WWW - World Wide Web

URL - Uniform Resource Locator

WiFi - Wireless Fidelity

WLAN - Wireless Local Area Network

APN - Access Point Name

VPN - Virtual Private Network

USB - Universal Serial Bus

MMS - Multimedia Messaging Service

CPU - Central Processing Unit

RAM - Random Access Memory

ROM - Random Only Memory

EVM - Electronic Voting Machine

QR Code - Quick Response Code

PIN - Personal Identification Number

IT - Information Technology

IP - Internet Protocol

DVD - Digital Video Disk

LED - Light Emiting Diode

LCD - Light Crystal Display

...

इस सूची को और भी Update किया जायेगा।।

● Online पैसा कैसे कमायें।। How to earn money online ...


उम्मीद है आपको यह पोस्ट अच्छी लगी होगी।

 इसी प्रकार की Tech & Study संबंधित जानकारियों के लिए जुड़े रहें हमारे साथ।।


----       -----
Kaisi lagi aapko post, comment karke jarur bataye...
                                           -----    -----


Best ways to earn money online ।। Online पैसा कमाने के तरीके ।। अॉनलाइन पैसा कैसे कमायें। How to earn money online


How to earn money online। online पैसा कमाने के तरीके।।


Hello everyone, स्वागत है आप सबका।

आज इन्टरनेट की दुनिया इतनी बढ़ चुकी है कि हम मुश्किल से मुश्किल काम चुटकियों में कर सकते है। Internet के जरिये हम दुनिया के किसी भी कोने में सम्पर्क स्थापित कर सकते है और सूचनाओं के साथ-साथ वस्तुओं का भी आदान-प्रदान कर सकते है।


हम इन्टरनेट के जरिये जो भी जानकारी प्राप्त करते है, उसके पीछे किसी-न-किसी की मेहनत होती है और उसे इस मेहनत का परिणाम भी मिलता है।


हाँ, सही समझ रहे है आप, मेहनत का परिणाम यानि कि उसे अपनी आजीविका चलाने या अपने पार्ट टाइम शौकों को पूरा करने के लिए पैसे मिलते है।
...

आज मैं अपनी इस पोस्ट में बताऊंगा कि किस प्रकार हम ऑनलाइन पैसे कमा सकते है और उनके जरिए अपनी लाइफ स्टाइल को बेहतर बना सकते है।

Online earning methods
Best ways to earn money online
...

आज हमारे सामने हजारों ऐसे उदाहरण है जो इंटरनेट के जरिए अच्छी खासी आय प्राप्त कर रहे है।
...

तो चलिए मैं उन तरीकों के बारे में बताता हूं जिनसे हम ऑनलाइन अच्छी-खासी आमदनी कर सकते है और एक चर्चित व्यक्ति बन सकते है।


1.  ब्लॉगिंग(Blogging) -  

                       ब्लॉगिंग एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां हम अपनी मेहनत, लगन और हुनर के दम पर अच्छी खासी इनकम कर सकतेे है। इसके लिए हमें एक ब्लॉग बनाना होगा जिसे हम ब्लॉगर(Blogger) या वर्डप्रेस(wordpress) पर बना सकते है। प्रारंभ मेें ब्लॉगिंग हमें कठिन लग सकती है लेकिन धीरे-धीरे सबकुछ समझ मेें आने लगेगा और इसमें पारंगत होते जायेेंगे।
           जब हमारे ब्लॉग पर अच्छा-खासा ट्रैफिक आने लगे तो हम इस पर Google Adsense या अन्य किसी कम्पनी के Advertisement लगाकर कमाई कर सकते है या ब्लॉगर पर हम और भी कई तरीकों से पैसा कमा सकते है जैसे कि एफिलिएट मार्केटिंग(Affiliate marketing),  प्रोडक्ट प्रमोशन(Product promotion) इत्यादि से।


2. यूट्यूब से (By YouTube) - 


           YouTube पैसा कमाने का एक बहुत ही अच्छा जरिया है। इसके लिए हमें YouTube पर एक चैनल बनाना होता है और उस पर वीडियो डालनेेे होते है। अगर हमारे वीडियोस का कंटेंट अच्छा है और लोग उसे लाइक करते है तो हमारा चैनल धीरे-धीरे वृद्धि करेगाा जिससे हमारे चैनल को अच्छा-खासा ट्राफिक मिलेगा। जब हमारेे वीडियोस की अच्छी पहुंच हो जाएगी तो हम अपने चैनल को गूगल एडसेंस(Google Adsense) के जरिए monetize कर सकते है और Advertisement से पैसा कमा सकते है।

 यूट्यूब online earning का सबसे बढ़िया प्लेटफॉर्म है।



इसके अतिरिक बहुत से तरीके हैं जिनसे हम ऑनलाइन पैसा कमा सकते है। उनकी सूची नीचे दी गई है जिन्हें आप Google पर सर्च कर विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकते है।
.... 

  • App making
  • web designing
  • online typing job
  • Event blogging
  • Affiliate marketing
  • Product promotion
  • Online Book selling
  • Paid promotion


...


उम्मीद है आपको यह पोस्ट अच्छी लगी होगी।


अगर आप इनमे से कोई भी काम पूरी मेहनत, लगन और सच्चाई से करते हो तो आपको कोई भी अॉनलाइन पैसा कमाने से नहीं रोक सकता।



कैसी लगी आपको यह पोस्ट, कमेंट करके जरूर बतायें।






जियो सिम में फ्री कॉलरट्यून(Callertune) कैसे लगायें।। How to set free caller tune in jio sim


Jio sim me free callertune kaise lagaye

जिओ इंडिया का लार्जेस्ट ग्रोइंग सिम नेटवर्क(Largest growing network) है जो 4जी बेस्ड नेटवर्क(4G Based Network) है।

जियो अपनी कई सुविधाएं free of cost यानि निशुल्क प्रदान करता है जिनमें से कॉलर ट्यून भी वो सुविधा है जो जियो की तरफ से सभी जिओ यूजर्स के लिए निशुल्क प्रदान की जा रही है।

अन्य मोबाइल नेटवर्क कंपनियां कॉलर ट्यून सर्विस के लिए लगभग ₹30 से लेकर ₹100 तक प्रति महीने चार्ज करती है जबकि जियो यह सुविधा फ्री में देता है।

अधिकतर जियो सिम के यूज़र्स(users) इस सुविधा के बारे में अनजान है क्योंकि कंपनी ने इससे संबंधित कोई भी मैसेजेस(messages) इत्यादि नहीं भेजे है जो यह बता सके कि जियो की तरफ से कॉलर ट्यून की सुविधा निशुल्क दी जा रही है।

आज मैं आपको यह बताने जा रहा हूं कि किस प्रकार हम जियो की इस सुविधा को अपने नंबर पर फ्री में एक्टिवेट करवा सकते है।
   


Jio sim
Jio sim par free me callertune kaise lagaye..



हम जियो की फ्री कॉलर ट्यून सुविधा को अपने फोन पर 2 तरीकों से एक्टिवेट कर सकते है। पहला तरीका है मैसेज भेजकर जबकि दूसरा तरीका है जिओ म्यूजिक(Jio Music) ऐप को डाउनलोड कर उसके जरिये।

मैं आज आपको इन दोनों तरीकों से बताऊंगा कि किस प्रकार हम अपने जियो नंबर पर कॉलर ट्यून की सुविधा को फ्री में एक्टिवेट(Activate) कर सकते है।


1. संदेश भेजकर (By message)

           इसके लिए सबसे पहले आपको अपना मैसेज बॉक्स ओपन करना होगा और उसमें 'JT' टाइप करना होगा फिर उसे '56789' पर भेजना होगा। 
       अब कंपनी की तरफ से आपको नीचे दिखाया गया जैसा मैसेज आएगा, उसे आपको अपनी कैटेगरी के अनुसार रिप्लाई करना होगा जैसे कि मुझे बॉलीवुड के गानों को अपनी कॉलरट्यून सेट करना है तो मुझे एक दबाकर रिप्लाई करना होगा।


Jio free caller tune



अब जैसे कि आप अपनी पसंद के अनुसार मैसेज का रिप्लाई करते हैं तो उस पसंद के कई और भागों मेंं एक नया मैसेज आएगा फिर आपको उसे अपनी पसंद के अनुसार रिप्लाई करना होगा। जैसे कि मैंने सबसे पहले बॉलीवुड कैटेगरी का रिप्लाई किया तो मुझे बॉलीवुड से संबंधित 3-4 और कैटेगरी का नया मैसेज आएगा जैसे कि नीचे दिखाया गया है।


Free caller tune



इसका रिप्लाई करने के बाद कंपनी की ओर से आपको एक कंफर्मेशन मैसेज आएगा। उसका रिप्लाई करने के बाद आपका जियो ट्यून सेट हो जाएगा।


2. Jio Music app से 

अगर आपके फोन में जिओ म्यूजिक ऐप है तो अच्छी बात है अन्यथा Play Store में जाकर जिओ म्यूजिक ऐप को इंस्टॉल करें और उसे ओपन करें। 
         ऐप को ओपन करने के बाद अपनी पसंद के गाने(song) का सुझाव करें और 'Set as JioTune' पर टैप(tap) करें।

How to set jiotune free

अब आपको कम्पनी की तरफ से एक कन्फर्मेशन मैसेज (Confirmation message) आयेगा और आपकी जिओट्यून(JioTune) सेट हो जायेगी।



--------------------------------------------


                                                                  इस पोस्ट से हमने जाना कि Jio सिम में कॉलरट्यून को फ्री में कैसे लगाये


अगर अब भी आपको कॉलरट्यून सेट करने में कोई दिक्कत आ रही है तो comment करके जरूर बताये।




फेसबुक वीडियो को डाउनलोड कैसे करें।। How to download facebook videos...

How to download fb videos यानी Facebook की वीडियोस को डाउनलोड कैसे करते है। आज की पोस्ट में यही बताया गया है।

फ्रेंड्स जैसा कि हम जानते हैं कि Facebook एक बहुत ही बड़ा सोशल साइट प्लेटफॉर्म(social site platform) है जो लगातार बढ़ता जा रहा है। इस पर हमेशा लाखों-करोड़ों फोटोस(photos) और वीडियो(videos) अपलोड होते रहते है जो हमें एक दूसरे से कनेक्टेड(connected) रखते है।



Facebook लगातार अपने वर्जन को अपडेट करता जा रहा है और इसमें हमेशा नए-नए फीचर लॉन्च होते रहते हैं जो हमें एक अलग ही अनुभव प्रदान करते है लेकिन FB ऐप में एक कमी है और वो यह है कि हम Facebook से वीडियोस(videos) को सीधे डाउनलोड  नहीं कर सकते है हालांकि फोटोस(photos) को तो डाउनलोड या सेव कर सकते है।


आज की पोस्ट में मैं यह बताऊंगा कि Facebook के वीडियोज(videos) को डाउनलोड कैसे करते है।

How to download facebook videos


इसके लिए सबसे पहले आपको अपने फोन की प्ले स्टोर(Play store) या एप्प स्टोर(App store) को ओपन करना होगा और वहां सर्च बॉक्स में 'EZ video download for facebook'  आपको टाइप करना होगा या आप उस ऐप को नीचे दी गई लिंक से भी डाउनलोड कर सकते है।
  *Click here to download the app


इस ऐप को डाउनलोड करने के बाद आपको अपनी Facebook ID से लॉगिन करना पड़ेगा।

उसके बाद आप उस वीडियो को इस ऐप में खोजें जिसे आप डाउनलोड करना चाहते है। वीडियो मिलने के बाद वीडियो को ऐप में ओपन करें, फिर नीचे दी गई विंडो के अनुसार ऊपर दाईं तरफ दिए गए तीर के निशान पर क्लिक करें।
Facebook videos

फिर आपको नीचे दी गई फोटो के अनुसार 'OK' पर क्लिक करना है।
Facebook videos

इस प्रकार आपका वीडियो(Video) डाउनलोड(Download) हो जाएगा। वीडियो देखने के लिए इस ऐप को दोबारा ओपन करें और डाउनलोड(Download) किए गए वीडियोस(Videos) को देखें या फिर आप इन्हेंं फाइल मैनेजर(File Manager) में जाकर भी देख सकते है। इस प्रकार आप अपने पसंदीदा वीडियोस(Favourite videos) को डाउनलोड कर सकते है चाहे वो कॉमेडी(Comedy) से जुड़े हो या एंटरटेनमेंट(Entertainment) से जुड़े हो या फिर पॉलिटिक्स(Polytics)।। .                        




उम्मीद है आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी।।


----     -----
Kaisi lgi aapko yeh post, comment karke jrur btaye...
                                           ------    ------


फोन पर आने वाले Ads (विज्ञापनों) को कैसे रोकें/कम करें।। How to stop/decrease the ads coming on the phone




फोन पर आने वाले विज्ञापनों को कैसे कम करें।

स्मार्टफोन की बढती दुनिया आज करोड़ों लोगों के लिए रोजगार का जरिया बन रही है और इसी के परिणामस्वरूप विज्ञापनों की दुनिया में भारी बढोतरी हो रही है।

जब हम फोन में Data Network अॉन(ON) होने पर कुछ भी देखते है तो हमें Ads भी देखने पङते है और इन्हीं विज्ञापनों(Ads) की सहायता से creators की Earning होती है और कम्पनियां अपने प्रॉडक्ट्स की मार्केटिंग/प्रचार
करती है।

Google और Facebook हमारी Activities पर ध्यान देती है और हमारी activities के अनुसार हमें विज्ञापन दिखाती है। Google इन जानकारियों को थर्ड पार्टी एप्स को प्रदान करती है या इन जानकारियों के जरिये उन एप्स को विज्ञापन प्रदान करती है।

अब आप सोच रहे होंगे कि कम्पनियां हमारे साथ ऐसा क्यों करती है तो इसका जवाब सीधा जवाब है कि ये कम्पनियां हमें अधिकतर जानकारियां free of cost यानि निशुल्क प्रदान करती है और Ads ही इनकी कमाई का प्रमुख साधन है।

Decrease advertisement
How to decrease the ads coming on the phone

आज मैं आपको ये बताउंगा कि हम किस प्रकार इन Ads को कम कर सकते है।

For Google -

सबसे पहले आप अपने फोन के ब्राउज़र को खोलें और सर्च बार में 'my activity' टाइप करें। यहां सबसे ऊपर में दिख रही विंडो पर टैप करें जिससे एक नया पेज ओपन होगा।

Google advertisement decrease

इसमें left side में ऊपर की ओर तीन डॉट पर क्लिक करें। यहां आपको गतिविधि नियंत्रण पर टैप करना है जिससे एक नया पेज ओपन होगा।
इस पेज को स्क्रॉल करते नीचे आएं। पेज के अंत में 'विज्ञापन' पर टैप करें। न्यू पेज खोलते ही यहां पर दिये पहले अॉप्शन को डिसेबल कर दें।

इस सेटिंग को करने के बाद आपको विज्ञापन तो दिखेंगे लेकिन वो आपकी सर्च की गई कुकीज पर आधारित नहीं होगें।

 

For Facebook -

          Facebook ऐप को ओपन करने के बाद दाएं तरफ दी गई तीन लाइनों पर क्लिक करें। उसके बाद सेटिंग ऑप्शन पर क्लििक करें।


अब नये खुले पेज को नीचे की तरफ स्क्रॉल करें जिससे वहां आपको 'Ad preferences' लिखा दिखाई देगा, उस पर क्लिक करें।

यहां आपको अपनी जरूरतों के अनुसार दिए गए ऑप्शन को डिसेबल कर देना है जिससे Facebook आपकी निजी एक्टिविटीज के अनुसार आपको ऐड नहीं दिखाएगा।




----   -----
Kaisi lgi aapko yeh post, comment karke jrur btaye
                                       ------       -------

"Whatsapp security code changed", what does it mean. "WhatsApp security code changed" इसका मतलब क्या है।




'whatsapp security code changed' what does it mean


WhatsApp चैटिंग का सबसे सबसे बड़ा जरिया है। आज WhatsApp के इतने डाउनलोड हो चुके हैं कि यह लोगों की जिंदगी का एक बहुत ही बड़ा हिस्सा बन चुका है।

Whatsapp
"Whatsapp security code changed" - what does it mean ??

WhatsApp लगातार अपने फीचर्स को अपडेट करते जा रहा है और इसी के अंतर्गत WhatsApp ने 2016 में एक फीचर लॉन्च किया था जिसका नाम था-- WhatsApp end-to-end encryption.

इस फीचर को WhatsApp ने लोगों की प्राइवेसी की सिक्योरिटी को बढ़ाने हेतु लांच किया था और इसका मतलब है कि आपके द्वारा भेजे गए मैसेज को सामने वाला यूजर ही पढ़ सकता है यानि कि इसे बीच में कोई भी नहीं देख सकता। WhatsApp खुद भी मैसेजेस को नहीं पढ़ पाता है। इसी फीचर के अंतर्गत WhatsApp ने कोडिंग का सिस्टम लॉन्च किया था।

इसीलिए जब भी कोई यूज़र WhatsApp को रीइंस्टॉल(Re-install) करता है यानी फोन में इंस्टॉल किए गए WhatsApp को अनइंस्टॉल कर उसे दोबारा इंस्टॉल करता है या न्यू WhatsApp को इंस्टॉल करता है तो उसका सिक्योरिटी कोड चेंज हो जाता है इसीलिए हमें security code changed का मैसेज भेज दिखाई देता है।


अब आप समझ गए होंगे कि security code changed का मैसेज क्यों दिखाई देता है यानि कि कोई यूज़र WhatsApp को इंस्टॉल/रीइंस्टॉल ता है तो हमें यह मैसेज दिखाई देता है।



-----    ------
Kaisi lgi aapko yeh post, comment karke jrur btaye...
                                            -----      -----

फोन चार्ज करते समय न करें ये गलतियां।। Mistakes you're making while charging your smartphone battery


फोन चार्ज करते समय न करें ये गलतियां।।


आज स्मार्टफोन का बाजार इतना बढ़ चुका है कि हमेशा यानि कि हर सप्ताह में कोई ना कोई न्यू फोन लॉन्च होता रहता है और हर सेकंड में कई फोन बिक जाते है।


फोन के लिए बैटरी लाइफ बहुत अहम होती है। आज मैं उन मिस्टेक्स(mistakes)/गलतियों के बारे में बताऊंगा जो अक्सर यूजर्स फोन को चार्ज करते समय करते रहते है। यह मिस्टेक्स(Mistakes) स्मार्टफोन की बैटरी लाइफ को प्रभावित करते है तथा बैटरी चार्जिंग भी धीमी होती है।

Charging mistakes
Mistakes you are making while charging your smartphone.


◆◆  mistakes you are making while charging smartphone battery...◆◆



1. गलत यूएसबी केबल (USB Cable) का प्रयोग करना 

 अक्सर  लोग फोन के साथ आए चार्जर की usb केबल खराब होने के बाद उसकी जगह कोई थर्ड पार्टी यूएसबी केबल यूज़ करते हैं जो कि फोन की बैटरी की सेहत के लिए अच्छी नहीं होती है क्योंकि ये थर्ड पार्टी केबल्स electronic रूप से स्टैंडर्ड usb केबल की तुलना मेंं कमजोर होती है जो फोन को धीमा चार्ज करती है।
      अतः चार्जर की स्टैंडर्ड यूएसबी केबल खराब होने के बाद किसी अच्छे ब्रांड की स्टैंडर्ड यूएसबी केबल खरीदें जो आपके फोन के लिए सपोर्टिंग हो।

2. फ्लाइट मोड ऑन न रखना 
अक्सर लोग फोन को चार्ज करते समय फ्लाइट मोड ऑन/चालू नहीं रखते है जिससे फोन स्लो चार्ज होता है क्योंंकि फोन नेटवर्क सर्चिंग (Network Searching) में व्यस्त रहता है। अगर आप फोन को और अधिक तेज चार्ज करना चाहते हैं तो फोन को स्विच ऑफ कर देंं जिससे फोन लगभग 2 गुना तेज चार्ज होता है।



3. चार्जिंग के लिए हमेशा वॉल सॉकेट का प्रयोग करें 

 कुछ लोग क्या करते है कि फोन को चार्जिंग के लिए लैपटॉप इत्यादि में लगा देते है जिससे फोन तो चार्ज होता है लेकिन धीमा चार्ज होता है। अतः चार्जिंग के लिए हमेशा वॉल सॉकेट का प्रयोग करें।


4. गलत पावर बैंक का उपयोग करना 

 अक्सर लोग अपने फोन को चार्ज करने के लिए किसी भी पावर बैंक का उपयोग कर लेते हैं लेकिन यह ठीक नहीं है क्योंकि हर पावर बैंक उचित एंपियर वाला नहीं होता है जो फोन को ठीक तरीके से यानी तेजी से चार्ज नहीं करता है। अतः फोन को चार्ज करने के लिए सही पावर बैंक का चयन करें।


5. चार्जिंग के समय फोन कवर का उपयोग न करना 

 यह सुनकर आप जरूर चौंके होंगे परंतु यह एक सही बात है क्योंकि कवर फोन के तापमान को बढ़ाता है जबकि कंपनी के अनुसार फोन चार्जिंग के समय फोन का तापमान 5°C-45°Cके मध्य रहना चाहिए जबकि फोन का कवर तापमान को बढ़ाता है।


 mobile phone के addiction से कैसे बचें।। How to avoid phone addiction.


6. वायरलेस चार्जिंग का उपयोग न करें 

 हां यह सत्य है कि वायरलेस चार्जिंग वायर्ड चार्जिंग की तुलना में फोन को धीमा चार्ज करती है। अगर आप फोन को तेज चार्ज करना चाहते हैं तो वायरलेस चार्जिंग की जगह वायर्ड चार्जिंग का उपयोग करें।
... 



Is post me hamne jana ki फोन चार्ज करते समय नहीं करनी चाहिए ये गलतियां...


Thank you for visiting here.
...
Keep visiting




      

Things to know before buying a new smartphone ।। नया फोन लेने से पहले जान ले ये बातें ।।


 नया स्मार्टफोन खरीदने से पहले ध्यान रखें ये बातें।। 

Things to know before buying a new smartphone



आजकल हर व्यक्ति Smartphone लेना चाहता है या अपने पुराने फोन को बदलना चाहता है।

स्मार्टफोन के इस बदलते दौर में बाजार में एक ही कीमत पर बहुत सारे फोन मौजूद है।

Mobile phone
             
एक ही कीमत पर अलग-अलग कंपनियों के अलग-अलग phones को देखकर ग्राहक हमेशा उलझन में रहता है कि उसे कौन-सा फोन खरीदना चाहिए। आपकी इसी उलझन को सुलझन बनाने का इस पोस्ट में प्रयास किया गया है।।

New smartphone
Things to know before buying a new mobile device

Important points to know before buying a new smartphone --

                   ---             ---

1. बजट (Budget) 

       सबसे पहले आपको अपना बजट तय करना पड़ेगा कि आप किस Price Range में फोन खरीदना चाहते हैं क्योंकि बाजार में ₹2,000 से लेकर ₹1,00,000 तक के फोन मौजूद है। आप अपनी जरूरत और उपयोग के आधार पर फोन  बजट का चयन कर सकते हैं।

2. प्रोसेसर और रैम (Processor and Ram)

   फोन की परफॉर्मेंस उस में लगे प्रोसेसर और रैम (Processor & Ram) पर निर्भर करती है।

 मार्केट में तरह-तरह के प्रोसेसर उपलब्ध है। सामान्यता एंड्रॉयड डिवाइस में क्वालकॉम स्नैपड्रैगन और मीडियाटेक(Mediatek) प्रोसेसर उपयोग में लिए जाते हैं।

Processors
              

फोन में प्रोग्राम एग्जीक्यूट करने के लिए रैम (Ram - Random access memory) की जरूरत पड़ती है। फोन की परफॉर्मेंस काफी हद तक रैम पर निर्भर करती है।

 आजकल फ्लैगशिप फोंस (flagship phones) में 8 GB तक रैम दी जा रही है।

3. अॉपरेटिंग सिस्टम (Operating System)

 Phone अॉपरेटिंग सिस्टम (Operating System) पर रन करते है।

 Android Google का , IOS Apple का तथा Windows Microsoft का अॉपरेटिंग सिस्टम (operating system) है।

Operating system
              

भारत में मोस्टली Android चलता है।

आप अपनी पसंद के अनुसार Operating system का चयन कर सकते है।

4. ब्रांड (Brand)

  स्मार्टफोन बाजार में इतने ब्रांड आ चुके हैं कि यह समझना मुश्किल है कि किस ब्रांड का चयन करें।

  हमें ब्रांड का चयन उसकी सर्विस क्वालिटी (Service Quality) , कस्टमर सेटिस्फेक्शन (Customer satisfaction) ,उपलब्ध सर्विस सेंटर (service center) के आधार पर करना चाहिए।

Some most brands -- Apple , Xiaomi , Samsung , blackberry , Oneplus etc.


5. बैटरी (Battery)

  बैटरी phone का एक बहुत ही महत्वपूर्ण भाग होती है।
आजकल कई फोन कंपनियां अपने स्मार्टफोन को नॉन रिमूवेबल बैटरी फीचर के साथ लॉन्च कर रही है जो फोन को और ज्यादा आकर्षक बना रहा है।

Battery
            


अगर आप एक नॉर्मल यूजर है तो 3000 एमएएच तक की बैटरी आपके लिए ठीक रहेगी लेकिन अब काफी फोन 4000 एमएएच बैटरी के साथ आते हैं जो कि एक काफी अच्छी बात है।

उच्च स्तरीय फोन Fast Charging Support System के साथ आ रहे है जिससे फोन बहुत ही कम समय में चार्ज हो जाता है।

6. कैमरा (Camera)

  फोन आने के बाद लोगों में फोटोग्राफी का काफी शौक बढा है।

 बहुत-सी कंपनियां अच्छे कैमरा वाले फोन लगा रही है जो सेल्फी तथा बैक कैमरे से बहुत ही अच्छी फोटोस (photos) क्लिक करते हैं।

Smartphone camera
               


 स्मार्टफोन आज प्रोफेशनल कैमरा (Professional Camera) की  जगह ले रहे हैं।

 अगर आपको एक बहुत अच्छी कैमरा क्वालिटी वाला फोन चाहिए तो आपको अपनी जेब ढीली करनी पड़ सकती है।

7. स्क्रीन (Screen)

       आजकल अधिकतर फोन 4 - 6.5 इंच स्क्रीन के साथ आते हैं। डिस्प्ले रिजोल्यूशन (Display Resolution) स्क्रीन क्वालिटी में अहम रोल रखता है। 

Mobile display
              
फोन  HD , HD+ , Full HD , Full HD+ & 4K  रिजोल्यूशन के साथ आते हैं जो क्वालिटी बढ़ने पर आपको बेहतरीन स्क्रीन एक्सपीरियंस (screen experience) देते हैं।


और भी बहुत से फैक्टर (Factor) है जो आपकी पसंद को प्रभावित कर सकते हैं जैसे Desigen , Colour , Audio Quality etc.



Thank you for visiting here.
...
Keep visiting



Difference between MP3 and m4a audio file || mp3 & m4a अॉडियो फाइल्स में अन्तर




Difference between mp3 and mp4 audio file


अगर आप डिजिटल संगीत सुनना पसंद करते हो तो आपने विभिन्न प्रकार की ऑडियो फाइलों को अनुभव किया होगा।

    आज हम दो लोकप्रिय ऑडियो फाइल्स mp3 एंड MP4 के मध्य अंतर स्पष्ट करने की कोशिश करते हैं।


M4a एक ऑडियो फाइल है जो MPEG-4 तकनीक का उपयोग करके बनाई गई है।
   
    इसका मुख्य उद्देश्य MP3 तकनीक से आगे निकलना और ऑडियो गुणवत्ता को बेहतर बनाना है। यह ऑडियो संपीडन का नया मानक है।

Image source - Google

यह MP3 से लगभग समान है लेकिन इसे कम फाइल आकार में बेहतर गुणवत्ता के लिए विकसित किया गया है।

  M4a प्रारूप को सर्वप्रथम Apple द्वारा introduced किया गया। इस प्रारूप को Apple Lossless Encoder के नाम से भी जाना जाता है।


तकनीकी रूप से m4a अॉडियो फाइल mp3 अॉडियो फाइल की तुलना में बेहतर है।

What is fuse & information related to fuse. | Fuse क्या है और फ्यूज से सम्बधित जानकारी





Fuse facts


फ्यूज नाम सुनते ही हमारे मन में बिजली(electricity) का ध्यान आता है।


Fuse
Fuse



Fuse  एक कम गलनांक, उच्च चालकता और कम प्रतिरोधकता वाला तार होता है। सामान्यतः फ्यूज तार सीसा और टिन की मिश्र धातु से बना होता है जिसमें सीसा(Lead) 37% एंड टिन(Tin) 63% होता है। फ्यूजों को हमेशा निम्न गलनांक वाली धातुओं से बनाया जाता है।
Fuse facts
Fuses


यदि परिपथ में उच्च विद्युत धारा का प्रवाह होता है तो फ्यूज कम गलनांक के कारण उष्मीय प्रभाव से पिघल जाता है जिससे परिपथ विच्छेद हो जाता है और परिपथ से जुड़े अन्य उपकरण सुरक्षित रहते हैं।

फ्यूजों का उपयोग विद्युत धारा के उच्च प्रभाव से बचने तथा विद्युतीय उपकरणों को सुरक्षित रखने के लिए किया जाता है।